इंडियन पिनल कोर्ट की धाराओं की जानकारी {Information about sections of the Indian Penal Court}

 इंडियन पिनल कोर्ट की कुल धारा 511 है ।

           

हमारे भारत देश मे जब कोई व्यक्ति कोई गलत काम करता है या फिर कोई अपराध {Crime} करता है तो उसके ऊपर कानूनी करवाही होती है और उसके नाम पर निम्न धारा लगाकर केस रजिस्टर्डे किया जाता है। उन्हे इंडियन पिनल कोर्ट  {I(Indian)P(pinal)C(court)} धारा {section} कहते है।

      चलो आज उनके बारे में चर्चा करते है 👉🏻

IPC Section 1 – Name of the Code and extent of its enforcement {कोड का नाम और उसके प्रवर्तन की सीमा}

 IPC Section 2 – Punishment for offenses committed within India.{भारत के भीतर किए गए अपराधों के लिए सजा}

 IPC Section 3 – Punishment for offenses committed outside India but triable in accordance with law within India.{भारत के बाहर किए गए अपराधों के लिए दंड, लेकिन भारत के भीतर कानून के अनुसार विचारणीय।}

 IPC Section 4 – Expansion of the code on extra-territorial / extra-territorial offences.{अतिरिक्त-क्षेत्रीय/अतिरिक्त-क्षेत्रीय अपराधों पर संहिता का विस्तार।}

 IPC Section 5 – Certain laws not to be affected by this Act.{कुछ कानूनों का इस अधिनियम से प्रभावित नहीं होना।}

 IPC Section 6 – Definitions in the Code to be understood subject to exceptions.{संहिता में परिभाषाओं को अपवादों के अधीन समझा जाना चाहिए।}

 IPC Section 7 – Meaning of phrase once explained.{वाक्यांश का अर्थ एक बार समझाया गया।}

 IPC Section 8 – Gender{लिंग}

 IPC Section 9 – Promises{वादे}

 IPC Section 10 – Male. Woman{

पुरुष, महिला}

 IPC Section 11 – Person {व्यक्ति}

 IPC Section 12 – public {जनता}

 IPC Section 13 – Definition of Queen{रानी की परिभाषा}

 IPC Section 14 – Servant of the Government. {सरकार का सेवक।}

 IPC Section 15 – Definition of British India {ब्रिटिश भारत की परिभाषा}

 IPC Section 16 – Definition of Government of India {भारत सरकार की परिभाषा}

 IPC Section 17 – Govt. {सरकार}

 IPC Section 18 – India {भारत}

 IPC Section 19 – Judge. {न्यायाधीश}

 IPC Section 20 – Court {अदालत}

 IPC Section 21 – Public servant {लोक सेवक}

 IPC Section 22 – Movable property.{चल समपत्ति।}

 IPC Section 23 – Wrongful gain/loss.{गलत लाभ/हानि।}

 IPC Section 24 – Dishonesty. {बेईमानी}

 IPC Section 25 – Fraudulently {धोखे से}

 IPC Section 26 – Reason to believe.{विश्वास करने का कारण।}

 IPC Section 27 – Property in possession of wife, clerk or servant.{पत्नी, क्लर्क या नौकर के कब्जे में संपत्ति}

 IPC Section 28 – Counterfeiting. {जालसाजी}

 IPC Section 29 – Documents. {दस्तावेज़}

 IPC Section 30 – Valuable securities. {मूल्यवान प्रतिभूतियां}

 IPC Section 31 – Bill { विपत्र}

IPC Section 32 – Words denoting acts include illegal omission. {कृत्यों को इंगित करने वाले शब्दों में अवैध चूक शामिल है}

 IPC Section 33 – Deeds {काम}

 IPC Section 34 – Acts done by several persons in furtherance of common intention {सामान्य आशय को आगे बढ़ाने के लिए कई व्यक्तियों द्वारा किए गए कार्य}

 IPC Section 35 – When such act is criminal by reason of its being done with criminal knowledge or intention {जब ऐसा कार्य आपराधिक ज्ञान या इरादे से किए जाने के कारण आपराधिक है}

 IPC Section 36 – Consequences caused partly by act and partly by omission. {परिणाम आंशिक रूप से कार्य के कारण और आंशिक रूप से चूक के कारण होता है}

 IPC Section 37 – Contributing to constitute offense by doing any of one of several acts.{कई कृत्यों में से कोई एक करके अपराध करने में योगदान देना}

 IPC Section 38 – Persons involved in criminal act may be guilty of various offences {आपराधिक कृत्य में शामिल व्यक्ति विभिन्न अपराधों के दोषी हो सकते हैं}

 IPC Section 39 – Voluntarily. {स्वेच्छा से}

 IPC Section 40 – Offenses.{अपराध}

 IPC Section 41 – Special Law. {विशेष कानून।}

 IPC Section 42 – Local Law {स्थानीय कानून}

 IPC Section 43 – Illegal .{अवैध}

 IPC Section 44 – Damage {आघात}

 IPC Section 45 – Life { जिंदगी}

 IPC Section 46 – Death {मर्त्यु}

 IPC Section 47 – Animals { जानवर}

 IPC Section 48 – Vessel {बर्तन}

 IPC Section 49 – Year or month {साल या महिना}

 IPC Section 50 – Section {अनुभाग}

 IPC Section 51 –  Oath. {शपथ}

IPC Section 52 – In good faith. {सद्भाव}

 IPC Section 53 – Punishment. {सज़ा}

 IPC Section 54 – Commutation of sentence of death. {मौत की सजा का रूपान्तरण।}

 IPC Section 55 – Commutation of sentence of life imprisonment {आजीवन कारावास की सजा में बदलाव}

 IPC Section 56 – Punishment of Europeans and Americans for slavery. {गुलामी के लिए यूरोपीय और अमेरिकियों की सजा।}

 IPC Section 57 – Variation of punishments {दंड की विविधता}

 IPC Section 58 – How to deal with criminals sentenced to exile until they are deported {निर्वासन की सजा पाने वाले अपराधियों से कैसे निपटें जब तक उन्हें निर्वासित नहीं किया जाता }

 IPC Section 59 – Expulsion for imprisonment {कारावास के लिए निष्कासन}

 IPC Section 60 – In certain cases of imprisonment punishable with imprisonment for the whole or any part thereof, which may be harsh or simple. {कारावास के कुछ मामलों में पूरे या उसके किसी भाग के लिए कारावास से दंडनीय, जो कठोर या साधारण हो सकता है।}

 IPC Section 61 – Punishment for confiscation of property.{संपत्ति की जब्ती के लिए सजा।}

 IPC Section 62 – Forfeiture of property in respect of offenders punishable with death, exile or imprisonment. {मृत्यु, निर्वासन या कारावास से दंडनीय अपराधियों के संबंध में संपत्ति की जब्ती}

 IPC Section 63 – Amount of fine / fine.{जुर्माने/जुर्माने की राशि।}

 IPC Section 64 – Punishment of imprisonment for non-payment of fine {जुर्माना अदा न करने पर कारावास की सजा}

 IPC Section 65 – When both imprisonment and fine may be ordered, term of imprisonment in default of payment of fine {जब कारावास और जुर्माना दोनों का आदेश दिया जा सकता है, तो जुर्माना अदा न करने पर कारावास की अवधि}

 IPC Section 66 – What kind of imprisonment to be given for non-payment of fine? {जुर्माना अदा न करने पर किस प्रकार का कारावास दिया जाए?}

 IPC Section 67 – Imprisonment for non-payment of fine, when the offense is punishable with fine only.{जुर्माने का भुगतान न करने पर कारावास, जब अपराध केवल जुर्माने से दण्डनीय हो।}

 IPC Section 68 – Expiry of imprisonment on payment of fine.{जुर्माना अदा करने पर कारावास की समाप्ति}

 IPC Section 69 – Termination of imprisonment in case of payment of proportionate part of fine {जुर्माने के आनुपातिक भाग के भुगतान के मामले में कारावास की समाप्ति}

 IPC Section 70 – Fine to be recovered within six years or during imprisonment. Death does not absolve property from liability. {छह साल के भीतर या कारावास के दौरान जुर्माना वसूल किया जाना है। मृत्यु संपत्ति को दायित्व से मुक्त नहीं करती है}

 IPC Section 71 – Punishment for offense consisting of several offences.{कई अपराधों से मिलकर बने अपराध के लिए सजा}

 IPC Section 72 – Punishment for person guilty of one of several offenses when judgment states that it is doubtful of which offense he is guilty {कई अपराधों में से एक के दोषी व्यक्ति के लिए सजा जब निर्णय में कहा गया है कि यह संदेहास्पद है कि वह किस अपराध का दोषी है}

 IPC Section 73 – Solitary confinement {एकान्त कारावास}

 IPC Section 74 – Period of solitary confinement {एकान्त कारावास की अवधि}

 IPC Section 75 – Enhanced punishment for certain offenses under Chapter 12 or Chapter 17 after previous conviction {पिछली सजा के बाद अध्याय 12 या अध्याय 17 के तहत कुछ अपराधों के लिए बढ़ी हुई सजा}

 IPC Section 76 – Act done by a person bound by law or believing himself to be bound by law by reason of mistake of fact. {कानून से बंधे किसी व्यक्ति द्वारा किया गया कार्य या तथ्य की गलती के कारण खुद को कानून से बाध्य मानते हुए}

 IPC Section 77 – Act of a Judge acting judicially {न्यायिक रूप से कार्य करने वाले न्यायाधीश का कार्य}

 IPC Section 78 – Act done in pursuance of judgment or order of court. {न्यायालय के निर्णय या आदेश के अनुसरण में किया गया कार्य}

 IPC Section 79 – Act done by a person justified by law or by mistake of fact believing himself to be justified by law {कानून द्वारा न्यायोचित व्यक्ति द्वारा किया गया कार्य या तथ्य की गलती से खुद को कानून द्वारा न्यायोचित मानने के द्वारा किया गया कार्य}

 IPC Section 80 – Accident in doing stamp act {स्टांप एक्ट करने में हुआ हादसा}

IPC Section 81 – Act likely to cause harm, but done without criminal intent, and to prevent other harm {कार्य से नुकसान होने की संभावना है, लेकिन आपराधिक इरादे के बिना, और अन्य नुकसान को रोकने के लिए किया गया}

IPC Section 82 – Act of child under seven years of age. {सात साल से कम उम्र के बच्चे का कार्य}

 IPC Section 83 – Act of a child of preterm understanding above seven years of age but below twelve years of age {सात साल से ऊपर लेकिन बारह साल से कम उम्र के बच्चे की अपरिपक्व समझ का कार्य}

 IPC Section 84 – Act of culpable person.{दोषी व्यक्ति का कार्य}

 IPC Section 85 – Act of a person who is incapable of arriving at a decision by reason of being intoxicated against his will {किसी व्यक्ति का कार्य जो अपनी इच्छा के विरुद्ध नशे में होने के कारण किसी निर्णय पर पहुंचने में असमर्थ है}

 IPC Section 86 – Offense committed by any person who is intoxicated, requiring special intention or knowledge {किसी भी व्यक्ति द्वारा किया गया अपराध जो नशे में है, विशेष इरादे या ज्ञान की आवश्यकता है}

 IPC Section 87 – Act done with consent, not intended to cause death or grievous hurt, nor knowing its likelihood {सहमति से किया गया कार्य, मृत्यु या गंभीर चोट पहुंचाने का इरादा नहीं है, न ही इसकी संभावना जानने के लिए}

 IPC Section 88 – Act done in good faith with the consent of any person not intended to cause death {किसी भी व्यक्ति की सहमति से सद्भावपूर्वक किया गया कार्य जिसका उद्देश्य मृत्यु कारित करना नहीं है}

 IPC Section 89 – Act done in good faith by guardian or with his consent for the benefit of infant or intoxicated person {शिशु या नशे में धुत व्यक्ति के लाभ के लिए अभिभावक द्वारा या उसकी सहमति से सद्भावपूर्वक किया गया कार्य}

 IPC Section 90 – Consent known to have been given under fear or delusion {भय या भ्रम के तहत दी गई सहमति के बारे में जाना जाता है}

 IPC Section 91 – Exceptional acts which are in themselves an offense without injury caused. {असाधारण कार्य जो अपने आप में बिना किसी चोट के एक अपराध हैं}

 IPC Section 92 – Act done in good faith for the benefit of any person without consent. {सहमति के बिना किसी भी व्यक्ति के लाभ के लिए सद्भावपूर्वक किया गया कार्य}

 IPC Section 93 – Communication given in good faith {संचार सद्भावना में दिया गया }

 IPC Section 94 – Act which any person is compelled to do by threats {कार्य जो किसी भी व्यक्ति को धमकियों द्वारा करने के लिए मजबूर किया जाता है}

IPC Section 95 – Act causing frivolous harm {तुच्छ हानि पहुँचाने वाला कार्य}

 IPC Section 96 – Things done in private defense {निजी बचाव में की गई बातें}

 IPC Section 97 – Right of private defense of body and property. {शरीर और संपत्ति की निजी रक्षा का अधिकार}

 IPC Section 98 – Right of private defense against act of person of unsound mind etc. {विकृतचित्त व्यक्ति के कृत्य के विरुद्ध प्राइवेट प्रतिरक्षा का अधिकार आदि}

 IPC Section 99 – Acts against which there is no right of private defense {ऐसे कार्य जिनके विरुद्ध प्राइवेट प्रतिरक्षा का कोई अधिकार नहीं है}

 IPC Section 100 – When does the right of private defense of the body to cause death apply. {मृत्यु कारित करने के लिए शरीर की प्राइवेट प्रतिरक्षा का अधिकार कब लागू होता है?}

 IPC Section 101 – When does the right to cause injury other than death extend? {मृत्यु के अलावा चोट पहुंचाने का अधिकार कब विस्तारित होता है?}

 IPC Section 102 – Commencement and continuance of right of private defense of body. {शरीर की निजी रक्षा के अधिकार का प्रारंभ और जारी रहना}

 IPC Section 103 – When right of private defense of property extends to cause of death {जब संपत्ति की निजी प्रतिरक्षा के अधिकार का विस्तार मृत्यु के कारण तक हो जाता है}

 IPC Section 104 – When does the right extend to causing any injury other than death. {मृत्यु के अलावा किसी अन्य चोट का कारण बनने का अधिकार कब विस्तारित होता है}

 IPC Section 105 – Commencement and continuance of right of private defense of property {संपत्ति की निजी रक्षा के अधिकार का प्रारंभ और जारी रहना}

 IPC Section 106 – Right of private defense against lethal assault when innocent person is at risk of harm {घातक हमले के खिलाफ निजी बचाव का अधिकार जब निर्दोष व्यक्ति को नुकसान का खतरा होता है}

 IPC Section 107 – Abetment of anything {किसी भी चीज का दुष्प्रेरण}

 IPC Section 108 – Abetment. {बहकाव}

 IPC Section 108A – Abetment in India of offenses outside India {भारत के बाहर अपराधों के लिए भारत में दुष्प्रेरण}

IPC Section 109 – Punishment for abetment of offence, if act abetted is committed in consequence thereof, and where no express provision is made for its punishment.{अपराध के दुष्प्रेरण के लिए दंड, यदि दुष्प्रेरित कार्य उसके परिणाम में किया जाता है, और जहां उसके दंड के लिए कोई स्पष्ट प्रावधान नहीं किया गया है}

 IPC Section 110 – Punishment for abetment, if the person abetted acts with an intention other than the intention of the abettor.{उकसाने के लिए सजा, अगर उकसाने वाला व्यक्ति दुष्प्रेरक के इरादे के अलावा किसी अन्य इरादे से काम करता है}

 IPC Section 111 – Liability of abettor when one act is abetted and another act is done. {जब एक कार्य को दुष्प्रेरित किया जाता है और दूसरा कार्य किया जाता है तो दुष्प्रेरक का दायित्व}

 IPC Section 112 – When the abettor is punishable for the act abetted and with the punishment assessed for the act done{जब दुष्प्रेरक कृत्य के लिए दण्डनीय है और किए गए कार्य के लिए निर्धारित दंड के साथ}

 IPC Section 113 – Liability of abettor to effect caused by act abetted, other than that intended by abettor.{दुष्प्रेरक द्वारा आशयित कार्य के अलावा दुष्प्रेरित कार्य के कारण प्रभाव के लिए दुष्प्रेरक का दायित्व}

 IPC Section 114 – Presence of abettor at the time of commission of offence. {अपराध किए जाने के समय दुष्प्रेरक की उपस्थिति}

 IPC Section 115 – Abetment of offense punishable with death or imprisonment for life – If the offense is not committed in consequence of the abetment.{मृत्युदंड या आजीवन कारावास से दंडनीय अपराध का दुष्प्रेरण – यदि अपराध उकसाने के परिणामस्वरूप नहीं किया गया है}

 IPC Section 116 – Abetment of offense punishable with imprisonment – if offense not committed.{कारावास से दंडनीय अपराध का दुष्प्रेरण – यदि अपराध नहीं किया गया है}

IPC Section 117 – Abetment of commission of offense by general public or more than ten persons. {आम जनता या दस से अधिक व्यक्तियों द्वारा अपराध करने का दुष्प्रेरण}

 IPC Section 118 – Concealment of intent to commit offense punishable with death or imprisonment for life{मौत या आजीवन कारावास से दंडनीय अपराध करने के इरादे को छुपाना}

 IPC Section 119 – Public servant concealing design to commit offense which it is his duty to prevent{लोक सेवक अपराध करने के लिए डिजाइन को छुपाता है जिसे रोकना उसका कर्तव्य है}

 IPC Section 120 – Concealment of intention to commit offense punishable with imprisonment.{कारावास से दंडनीय अपराध करने के इरादे को छुपाना}

 IPC Section 120A – Definition of criminal conspiracy {आपराधिक साजिश की परिभाषा}

 IPC Section 120B – Punishment for criminal conspiracy {आपराधिक साजिश के लिए सजा}

 IPC Section 121 – Waging or attempting to wage war or abetting the waging of war against the Government of India.{भारत सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ना या युद्ध छेड़ने का प्रयास करना या युद्ध छेड़ने के लिए उकसाना}

 IPC Section 121A – Conspiracy to commit offenses punishable by section 121 {धारा 121 के तहत दंडनीय अपराध करने की साजिश}

 IPC Section 122 – Collecting arms, etc., with intent to wage war against the Government of India. {भारत सरकार के खिलाफ युद्ध छेड़ने के इरादे से हथियार आदि इकट्ठा करना}

 IPC Section 123 – Concealment with intent to facilitate intent to wage war. {युद्ध छेड़ने के इरादे को सुगम बनाने के इरादे से छिपाना}

 IPC Section 124 – Assault on President, Governor, etc., with intent to compel or obstruct the exercise of any lawful power {किसी भी वैध शक्ति के प्रयोग को विवश करने या बाधित करने के इरादे से राष्ट्रपति, राज्यपाल आदि पर हमला}

 IPC Section 124A – Sedition {राज – द्रोह}

 IPC Section 125 – Waging war against any Asian power having friendly relations with the Government of India {भारत सरकार के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध रखने वाली किसी भी एशियाई शक्ति के खिलाफ युद्ध छेड़ना}

IPC Section 126 – Laundering the territory of power having peace relation with the Government of India. {भारत सरकार के साथ शांति संबंध रखने वाले सत्ता के क्षेत्र को लूटना}

 IPC ection 127 – Receiving property taken by war or plunder as described in sections 125 and 126. {धारा 125 और 126 में वर्णित युद्ध या लूट द्वारा ली गई संपत्ति प्राप्त करना}

 IPC Section 128 – Public servant voluntarily allowing a state prisoner or prisoner of war to escape. {लोक सेवक स्वेच्छा से राज्य के कैदी या युद्ध के कैदी को भागने की अनुमति देता है}

 IPC Section 129 – Public servant negligently to bear the escape of a prisoner. {लोक सेवक लापरवाही से एक कैदी के फरार होने को सहेंगे}

IPC Section 130 – Aiding, releasing or harboring such prisoner in the escape. {ऐसे कैदी को भागने में सहायता करना, रिहा करना या शरण देना}

 IPC Section 131 – Abetment of rebellion or attempts to deter any soldier, sailor or airman from duty. {विद्रोह का दुष्प्रेरण या किसी सैनिक, नाविक या वायुसैनिक को ड्यूटी से रोकने का प्रयास}

 IPC Section 132 – Abetment of rebellion if it results in rebellion. {विद्रोह का दुष्प्रेरण यदि विद्रोह में परिणत होता है}

 IPC Section 133 – Abetment of attack by soldier, sailor or airman on his superior officer while that officer is in the performance of his office. {अपने वरिष्ठ अधिकारी पर सैनिक, नाविक या वायुसैनिक द्वारा हमले के लिए उकसाना, जबकि वह अधिकारी अपने कार्यालय के प्रदर्शन में है}

 IPC Section 134 – Abetment of attack resulting in assault. {हमले के लिए उकसाने के परिणामस्वरूप हमला हुआ}

 IPC Section 135 – Abetment of abandonment by soldier, sailor or airman. {सैनिक, नाविक या वायुसैनिक द्वारा परित्याग के लिए उकसाना}

 IPC Section 136 – Shelter to deserter {निर्जन को आश्रय}

 IPC Section 137 – Concealed deserter on a commercial vessel by neglect of master {मास्टर की उपेक्षा से एक व्यावसायिक जहाज पर छुपाया गया भगोड़ा}

 IPC Section 138 – Abetment of act of disobedience by soldier, sailor or airman. {सैनिक, नाविक या वायुसैनिक द्वारा अवज्ञा के कार्य का दुष्प्रेरण।}

 IPC Section 138A – Application of the aforesaid sections to the Indian Maritime Service{भारतीय समुद्री सेवा के लिए पूर्वोक्त वर्गों का आवेदन}

 IPC Section 139 – Person subject to certain Acts. {कुछ अधिनियमों के अधीन व्यक्ति।}

 IPC Section 140 – Wearing or wearing insignia used by soldier, sailor or airman.{सैनिक, नाविक या वायुसैनिक द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला प्रतीक चिन्ह पहनना या पहनना।}

 IPC Section 141 – Unlawful assembly. {गैर कानूनी सभा}

IPC Section 142 – Being a member of an unlawful assembly. {एक गैरकानूनी विधानसभा का सदस्य होने के नाते}

 IPC Section 143 – Punishment for being a member of an unlawful assembly{गैर कानूनी सभा का सदस्य होने की सजा}

 IPC Section 144 – Joining an unlawful assembly armed with deadly weapons. {घातक हथियारों से लैस एक गैरकानूनी सभा में शामिल होना}

 IPC Section 145 – Willfully joining or continuance in an unlawful assembly which has been ordered to disperse {एक गैरकानूनी सभा में जानबूझकर शामिल होना या बने रहना जिसे तितर-बितर करने का आदेश दिया गया है}

 IPC Section 146 – Causing nuisance. {उपद्रव पैदा करना}

 IPC Section 147 – Punishment for rioting {दंगा करने की सजा}

 IPC Section 148 – Causing nuisance by being armed with deadly weapon. {घातक हथियारों से लैस होकर उपद्रव मचाना}

 IPC Section 149 – Every member of an unlawful assembly, guilty of an offense committed in the prosecution of common goal. {गैर-कानूनी सभा का प्रत्येक सदस्य, सामान्य लक्ष्य के अभियोग में किए गए अपराध का दोषी}

 IPC Section 150 – Hiring or abetting the hiring of persons to engage in unlawful assembly. {गैरकानूनी सभा में शामिल होने के लिए व्यक्तियों को काम पर रखना या उन्हें काम पर रखना}

 IPC Section 151 – Willfully joining or continuance of assembly of five or more persons after being ordered to disperse{तितर-बितर करने का आदेश दिए जाने के बाद जानबूझकर पांच या अधिक व्यक्तियों की सभा में शामिल होना या जारी रखना}

 IPC Section 152 – Assaulting or obstructing public servant in his attempt {लोक सेवक पर हमला करना या उसके प्रयास में बाधा डालना}  

 IPC Section 153 – Willfully abetting with intent to cause nuisance {उपद्रव करने के इरादे से जानबूझ कर दुष्प्रेरण करना}

  IPC Section 153A – Promotion of enmity between different groups on grounds of religion, race, language, place of birth, place of residence, etc. and doing acts prejudicial to the maintenance of harmony. {धर्म, जाति, भाषा, जन्म स्थान, निवास स्थान आदि के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच शत्रुता को बढ़ावा देना और सद्भाव बनाए रखने के लिए प्रतिकूल कार्य करना।}

 IPC Section 153B – Imputations, presumptions prejudicial to national integrity {राष्ट्रीय अखंडता के प्रतिकूल आरोप, अनुमान}

  IPC Section 154 – Owner or domicile of land on which unlawful assembly gathers {उस भूमि का स्वामी या अधिवास जिस पर गैर-कानूनी जमावड़ा होता है}

  IPC Section 155 – Liability of person for whose benefit the nuisance is committed {उस व्यक्ति का दायित्व जिसके लाभ के लिए उपद्रव किया गया है}

  IPC Section 156 – Liability of owner or agent of domicile for whose benefit the nuisance is committed {अधिवास के मालिक या एजेंट का दायित्व जिसके लाभ के लिए उपद्रव किया गया है}

  IPC Section 157 – Shelter of persons hired for unlawful assembly. {गैरकानूनी सभा के लिए किराए पर लिए गए व्यक्तियों का आश्रय}

  IPC Section 158 – Hiring to take part in unlawful assembly or riot {गैरकानूनी सभा या दंगे में भाग लेने के लिए किराए पर लेना}

 IPC Section 159 – Rioting {दंगे}

  IPC Section 160 – Punishment for causing nuisance. {उपद्रव करने के लिए दंड}

  IPC Sections 161 to 165 – In respect of offenses committed by or relating to public servants {लोक सेवकों द्वारा किए गए या उनसे संबंधित अपराधों के संबंध में}

IPC Section 166 – Disobeying law by public servant with intent to cause injury to any person. {किसी भी व्यक्ति को चोट पहुंचाने के इरादे से लोक सेवक द्वारा कानून की अवज्ञा करना}

  IPC Section 166A – Public servant disobeying direction under law for months{महीनों से कानून के तहत निर्देश की अवहेलना कर रहा लोक सेवक}

  IPC Section 166B – Non-treatment of victim by hospital{पीड़ित का अस्पताल में इलाज न होना}

   IPC Section 167 – Public servant who makes false document with intent to cause injury.{लोक सेवक जो चोट पहुंचाने के इरादे से झूठा दस्तावेज बनाता है} 

IPC Section 168 – Public servant who is unlawfully engaged in business {लोक सेवक जो अवैध रूप से व्यवसाय में लिप्त है}

 IPC Section 169 – Public servant who unlawfully buys or bids for property.{लोक सेवक जो अवैध रूप से संपत्ति खरीदता या बोली लगाता है}

  IPC Section 170 – Impersonation of public servant. {लोक सेवक का प्रतिरूपण}

   IPC Section 171 – Wearing dress or sign to be used by public servant with fraudulent intent. {कपटपूर्ण आशय से लोक सेवक द्वारा उपयोग की जाने वाली पोशाक या चिन्ह पहनना}

 IPC Section 171.A – Candidate, Election Rights Defined {उम्मीदवार, चुनाव अधिकार परिभाषित}

IPC Section 171.B – Bribery {रिश्वत}

IPC Section 171.C – Undue influence in elections {चुनावों में अनुचित प्रभाव}

IPC Section 171.D – Impersonation in elections {चुनाव में प्रतिरूपण}

IPC Section 171. E – Punishment for bribery {रिश्वतखोरी की सजा}

 IPC Section 171.F – Punishment for undue influence or impersonation in elections {चुनाव में अनुचित प्रभाव या प्रतिरूपण के लिए सजा}

 IPC Section 171.G – False statement in connection with election {चुनाव के संबंध में झूठा बयान}

 IPC Section 171.H – Illegal payment in connection with election {चुनाव के संबंध में अवैध भुगतान}

IPC Section 171.I – Failure to keep election account {चुनावी हिसाब रखने में नाकामी}

 IPC Section 172 – Absconding to avoid service of summons or other proceeding {सम्मन या अन्य कार्यवाही की तामील से बचने के लिए फरार}

IPC Section 173 – Preventing service of summons or other proceeding or publication thereof. {सम्मन या अन्य कार्यवाही या उसके प्रकाशन की तामील को रोकना}

 IPC Section 174 – Non-attendance of public servant by disobeying order {आदेश की अवहेलना कर लोक सेवक का उपस्थित न होना}

IPC Section 175 – Omission of a person legally bound to produce [document or electronic record] 1[document or electronic record] to public servant

{लोक सेवक को [दस्तावेज़ या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड] 1 [दस्तावेज़ या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड] पेश करने के लिए कानूनी रूप से बाध्य व्यक्ति की चूक} 

IPC Section 176 – Omission to give information or information to public servant by person legally bound to give information or information. {सूचना या सूचना देने के लिए कानूनी रूप से बाध्य व्यक्ति द्वारा लोक सेवक को सूचना या सूचना देने में चूक}

  IPC Section 177 – Giving false information. {झूठी जानकारी दे रहा है}

 IPC Section 178 – Refusing to make oath or affirmation when duly required to do so by public servant {लोक सेवक द्वारा ऐसा करने की विधिवत आवश्यकता होने पर शपथ या प्रतिज्ञान करने से इंकार करना}

IPC Section 179 – Refusing to answer public servant authorized to ask question. {प्रश्न पूछने के लिए अधिकृत लोक सेवक का जवाब देने से इंकार करना}

IPC Section 180 – Refusal to sign statement {बयान पर हस्ताक्षर करने से इंकार}

 IPC Section 181 – False statement on oath or affirmation by, or before person authorized to administer, oath or affirmation. {शपथ या प्रतिज्ञान पर या प्रशासन, शपथ या प्रतिज्ञान के लिए अधिकृत व्यक्ति द्वारा या उसके सामने झूठा बयान}

 IPC Section 182 – Public servant using his lawful power to give false information with intent to cause injury to another person {किसी अन्य व्यक्ति को चोट पहुंचाने के इरादे से झूठी जानकारी देने के लिए लोक सेवक अपनी वैध शक्ति का उपयोग कर रहा है} 

IPC Section 183 – Resistance to taking property by lawful authority of public servant {लोक सेवक के वैध प्राधिकार द्वारा संपत्ति लेने का विरोध}

 IPC Section 184 – Obstructing sale of property offered for sale by authority of public servant. {लोक सेवक के प्राधिकार द्वारा बिक्री के लिए प्रस्तावित संपत्ति की बिक्री में बाधा डालना}

  IPC Section 185 – Illegal purchase or illegal bidding of property offered for sale by authority of public servant. {लोक सेवक के प्राधिकार द्वारा बिक्री के लिए प्रस्तावित संपत्ति की अवैध खरीद या अवैध बोली लगाना}

IPC Section 186 – Obstructing public servant in discharge of public functions. {लोक सेवक को सार्वजनिक कार्यों के निर्वहन में बाधा डालना}

 IPC Section 187 – Omission to assist public servant when bound by law to render aid {सहायता प्रदान करने के लिए कानून द्वारा बाध्य होने पर लोक सेवक की सहायता करने में चूक}

IPC Section 188 – Disobedience of order duly promulgated by public servant. {लोक सेवक द्वारा विधिवत प्रख्यापित आदेश की अवज्ञा}

 IPC Section 189 – Threatening to cause injury to public servant {लोक सेवक को चोट पहुंचाने की धमकी}

  IPC Section 190 – Threat of injury to induce any person to stop applying for protection from public servant. {लोक सेवक से सुरक्षा के लिए आवेदन करना बंद करने के लिए किसी व्यक्ति को प्रेरित करने के लिए चोट की धमकी}

 IPC Section 191 – Giving false evidence. {झूठे सबूत दे रहे हैं।}

 IPC Section 192 – Fabricating false evidence. {झूठे सबूत गढ़ना}

  IPC Section 193 – Punishment for false evidence {झूठे सबूत के लिए सजा}

  IPC Section 194 – Giving or fabricating false evidence with intent to cause conviction for an offense punishable with death. {मौत से दंडनीय अपराध के लिए दोषसिद्धि का कारण बनने के इरादे से झूठे सबूत देना या गढ़ना}

  IPC Section 195 – Giving or fabricating false evidence with intent to obtain conviction for an offense punishable with imprisonment for life or with imprisonment {आजीवन कारावास या कारावास से दंडनीय अपराध के लिए दोषसिद्धि प्राप्त करने के आशय से झूठे साक्ष्य देना या गढ़ना}

IPC Section 196 – Using evidence known to be false {झूठे होने के लिए ज्ञात साक्ष्य का उपयोग करना}

  IPC Section 197 – Issuance or signing of false certificate {झूठे प्रमाण पत्र जारी करना या हस्ताक्षर करना}

 IPC Section 198 – Using as genuine a certificate known to be counterfeit. {नकली होने के लिए ज्ञात प्रमाण पत्र को वास्तविक के रूप में उपयोग करना}

IPC Section 199 – False statement made in declaration to be taken as evidence by law. {घोषणा में दिए गए झूठे बयान को कानून द्वारा साक्ष्य के रूप में लिया जाना है}

IPC Section 200 – Using as true such declaration knowing it to be false. {ऐसी घोषणा को सत्य के रूप में प्रयोग करना यह जानते हुए कि वह असत्य है}

IPC Section 201 – Deletion of evidence of offence, or giving false information to disguise offender. {अपराध के साक्ष्य को हटाना, या अपराधी को छिपाने के लिए झूठी सूचना देना}

 IPC Section 202 – Intentional omission to give notice of offense by person bound to give information. {सूचना देने के लिए बाध्य व्यक्ति द्वारा अपराध की सूचना देने में जानबूझकर चूक}

  IPC Section 203 – Giving false information as to offense committed {किए गए अपराध के बारे में गलत जानकारी देना}

 IPC Section 204 – Destruction to prevent production of any 3[document or electronic record] as evidence {सबूत के रूप में किसी भी 3 [दस्तावेज़ या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड] के उत्पादन को रोकने के लिए विनाश}

 IPC Section 205 – False impersonation for the purpose of any act or proceeding in suit or prosecution {किसी भी कार्य या मुकदमे या अभियोजन में कार्यवाही के उद्देश्य के लिए झूठा प्रतिरूपण}

 IPC Section 206 – Fraudulent removal or concealment of property to prevent it from being confiscated or seized in execution  {संपत्ति को जब्त करने या निष्पादन में जब्त होने से रोकने के लिए धोखाधड़ी से हटाना या छिपाना}

 IPC Section 207 – Fraudulent claim on property to protect it from being seized or seized in execution. {निष्पादन में जब्त या जब्त होने से बचाने के लिए संपत्ति पर कपटपूर्ण दावा}

IPC Section 208 – To tolerate fraudulent decree for sum not due {बकाया राशि के कपटपूर्ण फरमान को सहन करने के लिए}

 IPC Section 209 – Dishonestly making false claim in court{बेईमानी से कोर्ट में झूठा दावा}

IPC Section 210 – Fraudulently obtaining decree for amount not due {बकाया राशि के लिए कपटपूर्वक डिक्री प्राप्त करना}

IPC Section 211 – False allegation of offense with intent to cause injury. {चोट पहुंचाने के इरादे से अपराध का झूठा आरोप}

 IPC Section 212 – Harboring an offender. {अपराधी को शरण देना}

 IPC Section 213 – Taking gift, etc. to cover offender from punishment {अपराधी को सजा से बचाने के लिए उपहार आदि लेना}

IPC Section 214 – Offer of gift or repatriation of property in consideration of covert of offender {अपराधी के गुप्त रूप में उपहार की पेशकश या संपत्ति का प्रत्यावर्तन}

IPC Section 215 – Taking gift to aid in the taking back of stolen property, etc. {चोरी की संपत्ति आदि को वापस लेने में सहायता के लिए उपहार लेना}

IPC Section 216 – Harboring an offender who has escaped from custody or who has been ordered to be apprehended. {ऐसे अपराधी को शरण देना जो हिरासत से भाग गया हो या जिसे पकड़ने का आदेश दिया गया हो}

 IPC Section 216A – Penalty for harboring robbers or dacoits {लुटेरों या डकैतों को पनाह देने के लिए दंड}

IPC Section 216B – Definition of hybrid in section 212, section 216 and section 216A {धारा 212, धारा 216 और धारा 216ए में संकर की परिभाषा}

 IPC Section 217 – Disobedience to a direction of law by public servant with intent to save any person from punishment or from forfeiture of any property {किसी भी व्यक्ति को सजा से या किसी संपत्ति की जब्ती से बचाने के इरादे से लोक सेवक द्वारा कानून के निर्देश की अवज्ञा} 

IPC Section 218 – Making of false record or article by public servant with intent to save any person from punishment or from forfeiture of any property {किसी व्यक्ति को सजा से या किसी संपत्ति की जब्ती से बचाने के इरादे से लोक सेवक द्वारा झूठा रिकॉर्ड या लेख बनाना}

 IPC Section 219 – Corruption by public servant to report contrary to law, etc., in judicial proceedings {न्यायिक कार्यवाही में लोक सेवक द्वारा कानून के विपरीत रिपोर्ट करने आदि के लिए भ्रष्टाचार}

 IPC Section 220 – Delivery to trial or to confinement by person with authority who knows he is acting contrary to law {परीक्षण के लिए सुपुर्दगी या अधिकार वाले व्यक्ति द्वारा कारावास में जो जानता है कि वह कानून के विपरीत कार्य कर रहा है}

IPC Section 221 – Intentional omission to apprehend by public servant bound to apprehend  {पकड़ने के लिए बाध्य लोक सेवक द्वारा पकड़ने के लिए जानबूझकर चूक}

IPC Section 222 – Intentional omission to apprehend by public servant bound to apprehend person under sentence or lawfully committed {सजा के तहत या कानूनी रूप से प्रतिबद्ध व्यक्ति को पकड़ने के लिए बाध्य लोक सेवक द्वारा जानबूझकर चूक}

IPC Section 223 – Negligently tolerating escape from confinement or custody by public servant. {लोक सेवक द्वारा कारावास या हिरासत से भागने को लापरवाही से सहन करना}

IPC Section 224 – Resistance or obstruction by any person to his arrest according to law. {किसी व्यक्ति द्वारा कानून के अनुसार उसकी गिरफ्तारी का प्रतिरोध या बाधा}

IPC Section 225 – Resistance or obstruction to the apprehending of any other person according to law {कानून के अनुसार किसी अन्य व्यक्ति की गिरफ्तारी का प्रतिरोध या बाधा}

 IPC Section 225.A – Omission to be caught by public servant or to suffer escape in cases not otherwise provided {लोक सेवक द्वारा पकड़े जाने की चूक या अन्यथा उपबंधित न किए गए मामलों में बच निकलने में चूक}

 IPC section 225.B – Resistance or obstruction to lawful capture or escape or escape in conditions otherwise provided {अन्यथा प्रदान की गई शर्तों में वैध रूप से कब्जा करने या भागने या भागने का प्रतिरोध या बाधा}

IPC Section 226 – Unlawful return from exile. {निर्वासन से अवैध वापसी}

  IPC Section 227 – Violation of condition of remission of punishment {सजा में छूट की शर्त का उल्लंघन}

IPC Section 228 – Intentional insult to, or interfere with, public servant sitting in judicial proceedings {न्यायिक कार्यवाही में बैठे लोक सेवक का जानबूझकर अपमान करना या उसमें हस्तक्षेप करना}

IPC Section 228A – Disclosure of identity of person aggrieved by certain offences, etc. {कुछ अपराधों आदि से पीड़ित व्यक्ति की पहचान का प्रकटीकरण}

 IPC Section 229 – Impersonation of jury member or assessor. {जूरी सदस्य या निर्धारक का प्रतिरूपण}

IPC Section 230 – Definition of coin {सिक्के की परिभाषा}

 IPC Section 231 – Counterfeiting of coins {सिक्कों की जालसाजी}

IPC Section 232 – Counterfeiting of Indian coin {भारतीय सिक्के की जालसाजी}

IPC Section 233 – Making or selling equipment for counterfeiting coins {नकली सिक्कों के लिए उपकरण बनाना या बेचना}

 IPC Section 234 – Making or selling equipment for counterfeiting Indian coins {नकली भारतीय सिक्कों के लिए उपकरण बनाना या बेचना}

   IPC Section 235 – Possession of equipment or material used for counterfeiting coin {नकली सिक्के के लिए प्रयुक्त उपकरण या सामग्री का कब्ज़ा}

IPC Section 236 – Abetment in India of counterfeiting of coin outside India {भारत के बाहर सिक्के की जालसाजी के लिए भारत में दुष्प्रेरण}

  IPC Section 237 – Import or export of counterfeit coins {नकली सिक्कों का आयात या निर्यात}

IPC Section 238 – Import or export of counterfeit Indian coins {नकली भारतीय सिक्कों का आयात या निर्यात}

 IPC Section 239 – Delivery of coin known to be counterfeit at the time of possession {कब्जे के समय नकली होने के लिए जाने जाने वाले सिक्के की डिलीवरी}

IPC Section 240 – Delivery of an Indian coin known to be counterfeit at the time of its possession {एक भारतीय सिक्के की डिलीवरी जिसे उसके कब्जे के समय नकली माना जाता है}

IPC Section 241 – Delivery of any coin as genuine coin which the deliverer did not know to be counterfeit when it first came into his possession {वास्तविक सिक्के के रूप में किसी भी सिक्के की सुपुर्दगी जिसे वितरित करने वाला नहीं जानता था कि वह नकली है जब वह पहली बार उसके कब्जे में आया था}

  IPC Section 242 – Possession of counterfeit coin by a person who knew it to be counterfeit when it came into his possession {एक ऐसे व्यक्ति द्वारा नकली सिक्के का कब्ज़ा, जो उसके कब्जे में आने पर उसे नकली होना जानता था}

 IPC Section 243 – Possession of Indian coin by a person who knew it to be counterfeit when it came into his possession {एक ऐसे व्यक्ति द्वारा भारतीय सिक्के का कब्ज़ा जो उसके कब्जे में आने पर उसे नकली होना जानता था}

IPC Section 244 – Person employed in mint to cause coin to be of a weight or composition other than that fixed by law {टकसाल में नियोजित व्यक्ति सिक्का को कानून द्वारा तय किए गए वजन या संरचना के अलावा अन्य वजन या संरचना का कारण बनता है}

 IPC Section 245 – Unlawful taking of coin-making equipment from the mint {टकसाल से सिक्का बनाने के उपकरण का अवैध ले जाना}

 IPC Section 246 – Fraudulently or dishonestly reducing the weight of coin or altering its composition {कपटपूर्वक या बेईमानी से सिक्के का वजन कम करना या उसकी संरचना में परिवर्तन करना}

IPC Section 247 – Fraudulently or dishonestly reducing the weight of an Indian coin or altering its composition {कपटपूर्वक या बेईमानी से किसी भारतीय सिक्के का वजन कम करना या उसकी संरचना में परिवर्तन करना}

  IPC Section 248 – Altering the form of any coin with intent to serve as a coin of a different kind {एक अलग तरह के सिक्के के रूप में काम करने के इरादे से किसी भी सिक्के का रूप बदलना}

 IPC Section 249 – Altering form of Indian coin with intent to serve as a coin of a different kind {एक अलग तरह के सिक्के के रूप में काम करने के इरादे से भारतीय सिक्के का रूप बदलना}

IPC Section 250 – Delivery of coin which has come into possession with the knowledge that it has been altered {सिक्के की सुपुर्दगी जो इस ज्ञान के साथ कब्जे में आ गई है कि उसे बदल दिया गया है}

IPC Section 251 – Delivery of Indian coin into possession with knowledge that it has been altered {भारतीय सिक्के को इस ज्ञान के साथ कब्जे में देना कि इसे बदल दिया गया है}

 IPC Section 252 – Possession of coin by person who knew it to have been converted when it came into his possession {उस व्यक्ति द्वारा सिक्के का कब्ज़ा, जो यह जानता था कि उसके कब्जे में आने पर उसे परिवर्तित कर दिया गया था}

 IPC Section 253 – Possession of an Indian coin by a person who knew it to have been converted when it came into his possession {एक ऐसे व्यक्ति द्वारा एक भारतीय सिक्के का कब्ज़ा, जो जानता था कि यह उसके कब्जे में आने पर परिवर्तित हो गया है}

  IPC Section 254 – Delivery of coin as genuine coin which the deliverer did not know to have been converted when it first came into his possession {असली सिक्के के रूप में सिक्के की सुपुर्दगी जिसके बारे में सुपुर्दगी को पता नहीं था कि जब वह पहली बार उसके कब्जे में आया तो उसे परिवर्तित किया गया था}

 IPC Section 255 – Counterfeiting of Government stamp {सरकारी स्टाम्प की जालसाजी}

IPC Section 256 – Possession of apparatus or material for counterfeiting Government stamp {सरकारी स्टाम्प की जालसाजी के लिए उपकरण या सामग्री का कब्ज़ा}

IPC Section 257 – Making or selling apparatus for counterfeiting Government stamp {नकली सरकारी स्टाम्प के लिए उपकरण बनाना या बेचना}

IPC Section 258 – Sale of counterfeit Government stamp{नकली सरकारी स्टाम्प की बिक्री} 

IPC Section 259 – Possession of Government counterfeit stamp {सरकारी नकली स्टाम्प का कब्जा}

IPC Section 260 – Using any Government stamp, knowing it to be counterfeit, as original stamp {किसी भी सरकारी स्टाम्प का नकली होना जानते हुए उसे मूल स्टाम्प के रूप में प्रयोग करना}

 IPC Section 261 – Deleting articles from the article on which the Government stamp is affixed, or from the document which has been used for the purpose of causing harm to the Government {उस लेख से, जिस पर सरकारी मुहर लगी है, या उस दस्तावेज़ से, जिसका उपयोग सरकार को नुकसान पहुँचाने के उद्देश्य से किया गया है, हटाना}

IPC Section 262 – Use of Government stamp known to have been previously used {पहले इस्तेमाल किए जाने के लिए जाने जाने वाले सरकारी स्टाम्प का उपयोग}

IPC Section 263 – Peeling off a mark indicating that the stamp has been used {एक निशान को छीलना जो दर्शाता है कि स्टाम्प का उपयोग किया गया है}

 IPC Section 263.A – Prohibition of forged stamps {जाली टिकटों का निषेध}

IPC Section 264 – Fraudulent use of false instruments for weighing {तौल के लिए झूठे उपकरणों का कपटपूर्ण प्रयोग}

IPC Section 265 – Fraudulent use of false weight or measure {झूठे वजन या माप का कपटपूर्ण उपयोग}

IPC Section 266 – Possession of false weight or measure  {झूठे वजन या माप का कब्ज़ा}  

IPC Section 267 – Making or selling of false weight or measure {झूठे बाट या माप का बनाना या बेचना}

  IPC Section 268 – Public Nuisance {सार्वजनिक उपद्रव}

 IPC Section 269 – Negligent act likely to spread infection of disease dangerous to life {लापरवाही अधिनियम जीवन के लिए खतरनाक बीमारी के संक्रमण फैलाने की संभावना है}

IPC Section 270 – Malicious act likely to spread infection of disease dangerous to life {द्वेषपूर्ण कार्य से जीवन के लिए खतरनाक रोग का संक्रमण फैलने की संभावना}

 IPC Section 271 – Disobedience to the rule of quarantine {क्वारंटाइन के नियम की अवहेलना}

 IPC Section 272 – Adulteration of food or drink intended for sale. {बिक्री के उद्देश्य से खाने या पीने के लिए मिलावट} 

 IPC Section 273 – Sale of food or drink inappropriately {भोजन या पेय की अनुचित बिक्री}

 IPC Section 274 – Adulteration of drugs {दवाओं की मिलावट}

IPC Section 275 – Sale of adulterated drugs {मिलावटी दवाओं की बिक्री}

 IPC Section 276 – Sale of drug as other drug or preparation {अन्य दवा या तैयारी के रूप में दवा की बिक्री}

 IPC Section 277 – Pollution of public water source or reservoir {सार्वजनिक जल स्रोत या जलाशय का प्रदूषण}

 IPC Section 278 – Making the atmosphere injurious to health {वातावरण को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक बनाना}

IPC Section 279 – Driving or driving rashly on a public road {सार्वजनिक सड़क पर तेज गति से वाहन चलाना या वाहन चलाना}

IPC Section 280 – Hasty driving of a ship {जहाज को जल्दबाजी में चलाना}

 IPC Section 281 – Deceptive light, sign or display of buoy {भ्रामक प्रकाश, संकेत या बोया का प्रदर्शन}

   IPC Section 282 – Conveyance of any person by water for hire in a vessel incapacitated or overloaded {अक्षम या अतिभारित पोत में किराए के लिए पानी द्वारा किसी भी व्यक्ति का परिवहन}

IPC Section 283 – Causing danger or obstruction in public way or way of street. {सार्वजनिक रास्ते या सड़क के रास्ते में खतरा या रुकावट पैदा करना।}

IPC Section 284 – Negligent conduct in relation to toxic substance {जहरीले पदार्थ के संबंध में लापरवाह आचरण}

IPC Section 285 – Negligent conduct in respect of fire or inflammable substance. {आग या ज्वलनशील पदार्थ के संबंध में लापरवाहीपूर्ण आचरण}

IPC Section 286 – Negligent conduct in respect of explosive substance {विस्फोटक पदार्थ के संबंध में लापरवाहीपूर्ण आचरण}

IPC Section 287 – Negligent conduct in relation to machinery {मशीनरी के संबंध में लापरवाह आचरण}

 IPC Section 288 – Negligent conduct in relation to the demolition or repair of any construction {किसी भी निर्माण को गिराने या मरम्मत करने के संबंध में लापरवाहीपूर्ण आचरण}

 IPC Section 289 – Negligent conduct with respect to animal. {पशु के संबंध में लापरवाह आचरण}

IPC Section 290 – Punishment for public obstruction in cases not otherwise provided. {अन्यथा प्रदान नहीं किए गए मामलों में सार्वजनिक बाधा के लिए दंड}

IPC Section 291 – Continuance of nuisance after injunction to discontinue it {निषेधाज्ञा के बाद भी इसे बंद करने के लिए उपद्रव जारी रखना}

IPC Section 292 – Sale of obscene books, etc., etc. {अश्लील पुस्तकों आदि की बिक्री आदि}

 IPC Section 292.A – Deliberate and malicious acts done with intent to outrage religious feelings of any class by insulting its religion or religious beliefs {किसी भी वर्ग के धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करके उसकी धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के इरादे से किए गए जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कार्य}

 IPC Section 292.B- Printing,etc, of grossly indecent or securrilous matter or matter intended for blackmail {घोर अशोभनीय या अशोभनीय सामग्री या ब्लैकमेल के लिए अभिप्रेत मामले की छपाई, आदि}

  IPC Section 293 – Sale of obscene objects etc. to young person {युवक को अश्लील वस्तु आदि की बिक्री}

 IPC Section 294 – Obscene acts and songs {अश्लील हरकतें और गाने}

 IPC Section 294.A – Keeping of lottery office {लॉटरी कार्यालय रखना}

 IPC Section 295 – Injuring or profane place of worship with intent to insult the religion of any class. {किसी भी वर्ग के धर्म का अपमान करने के इरादे से पूजा स्थल को चोट पहुँचाना या अपवित्र करना}

 IPC Section 296 – Disturbing religious assembly {धार्मिक सभा को भंग करना}

 IPC Section 297 – Trespassing in cemeteries etc. {श्मशान घाट आदि में अतिक्रमण}

IPC Section 298 – Pronouncing words, etc. with intent to outrage religious feelings. {धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के इरादे से शब्द आदि का उच्चारण करना} 

IPC Section 299 – Criminal homicide {आपराधिक हत्या}

IPC Section 300 – Murder { हत्या}

IPC Section 301 – Committing culpable homicide by killing a person other than the person who intended to cause the death. {मृत्यु का कारण बनने वाले व्यक्ति के अलावा किसी अन्य व्यक्ति की हत्या करके गैर इरादतन हत्या करना}

IPC Section 302 – Punishment for murder {हत्या की सजा}

IPC Section 303 – Punishment for murder by person sentenced to imprisonment for life. {व्यक्ति द्वारा हत्या के लिए आजीवन कारावास की सजा}

  IPC Section 304 – Punishment for culpable homicide not amounting to murder {गैर इरादतन हत्या के लिए सजा हत्या की कोटि में नहीं है}

 IPC Section 304.A – Causing death by neglect {उपेक्षा से मौत का कारण}

IPC Section 304.B – Dowry Death {दहेज मौत}

IPC Section 305 – Abetment of suicide of infant or maniac. {शिशु या पागल को आत्महत्या के लिए उकसाना}

IPC Section 306 – Abetment of suicide {आत्महत्या के लिए उकसाना}

IPC Section 307 – Attempt to murder {हत्या का प्रयास}

 IPC Section 308 – Attempt to commit culpable homicide not amounting to murder{गैर इरादतन हत्या का प्रयास हत्या की कोटि में नहीं}

 IPC Section 309 – Attempt to commit suicide. {आत्महत्या करने का प्रयास}

 IPC Section 310 – Thug. {ठग}

 IPC Section 311 – Punishment for cheating. {छल करने के लिए सजा} 

IPC Section 312 – Causing abortion.{गर्भपात कराना}

 IPC Section 313 – Causing abortion without consent of woman. {महिला की सहमति के बिना गर्भपात कराना}

IPC Section 314 – Death caused by acts done with intent to cause abortion.{गर्भपात कारित करने के आशय से किए गए कृत्यों के कारण हुई मौत}

IPC Section 315 – Act done with intent to prevent child from being born alive or to cause death after birth.{बच्चे को जीवित पैदा होने से रोकने या जन्म के बाद मृत्यु कारित करने के इरादे से किया गया कार्य}

 IPC Section 316 – Causing the death of a living unborn child by an act which amounts to culpable homicide not amounting to murder.{एक जीवित अजन्मे बच्चे की मृत्यु एक ऐसे कार्य से करना जो गैर इरादतन मानव वध की कोटि में आता है जो कि हत्या की कोटि में नहीं आता है।}

IPC Section 317 – Abandonment and exposure of a child under twelve years of age by the father or mother of the child or any person in his care.{बच्चे के पिता या माता या उसकी देखभाल में किसी व्यक्ति द्वारा बारह वर्ष से कम उम्र के बच्चे का परित्याग और जोखिम}

IPC Section 318 – Death Concealment of birth by secret disposition of body {मृत्यु शरीर के गुप्त स्वभाव द्वारा जन्म का रहस्योद्घाटन}

IPC Section 319 – Causing hurt. {चोट पहुँचाना।}

IPC Section 320 – Grossly hurt.{अत्यधिक आहत}

IPC Section 321 – Voluntarily causing hurt{स्वेच्छा से चोट पहुंचाना}

IPC Section 322 – Voluntarily causing grievous hurt{स्वेच्छा से गंभीर चोट पहुंचाना}

IPC Section 323 – Punishment for willfully voluntarily causing hurt to any {जानबूझकर किसी को चोट पहुँचाने के लिए दंड}

IPC Section 324 – Voluntarily causing hurt by dangerous weapons or means{खतरनाक हथियारों या साधनों से स्वेच्छा से चोट पहुंचाना}

IPC Section 325 – Punishment for voluntarily causing grievous hurt{स्वेच्छा से गंभीर चोट पहुंचाने के लिए दंड}

IPC Section 326 – Voluntarily causing grievous hurt by dangerous weapons or means{खतरनाक हथियारों या साधनों से स्वेच्छा से गंभीर चोट पहुंचाना}

 IPC Section 326.A – Acid attack{तेजाब हमला}

IPC Section 326.B – Attempt to attack acid{तेजाब पर हमला करने का प्रयास}

IPC Section 327 – Voluntarily causing hurt to extort property or valuable security or to compel unlawful act.{संपत्ति या मूल्यवान सुरक्षा की जबरन वसूली के लिए स्वेच्छा से चोट पहुंचाना या गैरकानूनी कार्य के लिए बाध्य करना}

IPC Section 328 – Causing hurt by poison, etc., with intent to commit offence.{अपराध करने के आशय से विष आदि से चोट पहुँचाना}

IPC Section 329 – Voluntarily causing grievous hurt to extort property or to compel unlawful act{संपत्ति की जबरन वसूली के लिए स्वेच्छा से गंभीर चोट पहुंचाना या गैरकानूनी कार्य के लिए मजबूर करना}

IPC Section 330 – Voluntarily causing damage to sanction, extortion or coercion to repatriate property.{स्वेच्छा से मंजूरी को नुकसान पहुंचाना, जबरन वसूली या संपत्ति को प्रत्यावर्तित करने के लिए जबरदस्ती करना।}

IPC Section 331 – Voluntarily causing grievous hurt to produce sanction or to compel repatriation of  {मंजूरी देने या संपत्ति के प्रत्यावर्तन के लिए मजबूर करने के लिए स्वेच्छा से गंभीर चोट पहुंचाना}

IPC Section 332 – Voluntarily causing hurt to deter public servant from performing his duty{लोक सेवक को अपना कर्तव्य निभाने से रोकने के लिए स्वेच्छा से चोट पहुँचाना}

 IPC Section 333 – Voluntarily causing grievous hurt to deter public servant from his duties. {लोक सेवक को अपने कर्तव्यों से रोकने के लिए स्वेच्छा से गंभीर चोट पहुंचाना।}

 IPC Section 334 – Voluntarily causing hurt on provocation{उकसावे पर स्वेच्छा से चोट पहुंचाना}

 IPC Section 335 – Voluntarily causing grievous hurt on provocation{उकसावे पर स्वेच्छा से गंभीर चोट पहुंचाना }

IPC Section 336 – Act endangering life or personal safety of others.{दूसरों के जीवन या व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरे में डालने वाला अधिनियम।}

IPC Section 337 – Causing hurt by any act which endangers human life or the personal safety of any{किसी ऐसे कार्य से चोट पहुँचाना जो मानव जीवन या किसी की व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरे में डालता हो}

IPC Section 338 – Causing grievous hurt by any act which endangers human life or the personal safety of any {किसी ऐसे कार्य से गंभीर चोट पहुंचाना जो मानव जीवन या किसी की व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरे में डालता हो}

IPC Section 339 – Wrongful restraint.{गलत संयम}

IPC Section 340 – Wrongful nfinement or wrongful confinement.{सदोष परिरोध या सदोष परिरोध।}

IPC Section 341 – Punishment for wrongful restraint {सदोष संयम के लिए सजा}

 IPC Section 342 – Punishment for wrongful restraint.{सदोष अवरोध के लिए दण्ड}

IPC Section 343 – Wrongful confinement for three or more days. {तीन या अधिक दिनों के लिए सदोष कारावास।}

IPC Section 344 – Wrongful confinement for ten or more days.{दस या अधिक दिनों के लिए सदोष कारावास।}

IPC Section 345 – Wrongful confinement of a person whose writ of release has been issued{जिस व्यक्ति की रिहाई का रिट जारी किया गया है, उसका गलत तरीके से कारावास}

IPC Section 346 – Wrongful confinement in secret place.{गुप्त स्थान पर सदोष परिरोध}

IPC Section 347 – Wrongful confinement to extort property or to compel unlawful act. {संपत्ति की जबरन वसूली करने के लिए सदोष परिरोध या गैर कानूनी कार्य के लिए विवश करना।}

IPC Section 348 – Wrongful confinement to repatriate property by force or by force to produce confession {स्वीकारोक्ति पेश करने के लिए बल या बल द्वारा संपत्ति को प्रत्यावर्तित करने के लिए सदोष कारावास}

 IPC Section 349 – Force.{बल}

 IPC Section 350 – Criminal force{आपराधिक बल}

IPC Section 351 – Assault.{हमला}

IPC Section 352 – Punishment for assault or use of criminal force without serious provocation{गंभीर उकसावे के बिना हमले या आपराधिक बल के प्रयोग के लिए सजा}

IPC Section 353 – Assault or use of criminal force to deter public servant from discharge of his duty {लोक सेवक को उसके कर्तव्य के निर्वहन से रोकने के लिए हमला या आपराधिक बल का प्रयोग}

IPC Section 354 – Assault or criminal force to woman with intent to outrage her modesty{महिला की लज्जा भंग करने के इरादे से हमला या आपराधिक बल}

IPC Section 354.A – Sexual Harassment{यौन उत्पीड़न}

IPC Section 354.B – Act with intent to make a woman naked{महिला को नग्न करने के इरादे से अधिनियम}

IPC Section 354.C – Eavesdropping{छिपकर बातें करना}

IPC Section 354.D – Pursuit{पीछा}

IPC Section 355 – Assault or use of criminal force on any person with intent to dishonor any person otherwise than by serious provocation{गंभीर उकसावे के अलावा किसी अन्य व्यक्ति का अपमान करने के इरादे से किसी व्यक्ति पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग}

 IPC Section 356 – Assault or criminal attempt to theft of property carried by any person by use of force.{बल प्रयोग द्वारा किसी व्यक्ति द्वारा की गई संपत्ति की चोरी का हमला या आपराधिक प्रयास।}

 IPC Section 357 – Assault or use of criminal force in attempt to wrongfully confinement any person. {किसी व्यक्ति को गलत तरीके से कैद करने के प्रयास में हमला या आपराधिक बल का प्रयोग}

IPC Section 358 – Assault or use of criminal force on receipt of grave provocation{गंभीर उकसावे की प्राप्ति पर हमला या आपराधिक बल का प्रयोग}

IPC Section 359 – Kidnapping{अपहरण}

IPC Section 360 – Kidnapping from India.{भारत से अपहरण}

IPC Section 361 – Abduction from lawful guardianship{वैध संरक्षकता से अपहरण}

 IPC Section 362 -Kidnapping. {अपहरण।}

IPC Section 363 – Punishment for kidnapping{अपहरण के लिए सजा}

IPC Section 363.A – Abduction of minor for purposes of begging, disability{भीख मांगने, निःशक्तता के उद्देश्य से नाबालिग का अपहरण}

IPC Section 364 – Kidnapping or abducting to commit murder.{हत्या करने के लिए अपहरण या अपहरण}

IPC Section 364.A – Kidnapping for ransom, etc. {फिरौती के लिए अपहरण, आदि।}

IPC Section 365 – Kidnapping or abduction with intent to covertly and unreasonably confinement / imprison any person.{गुप्त रूप से और अनुचित रूप से किसी व्यक्ति को कैद / कैद करने के इरादे से अपहरण या अपहरण।}

 IPC Section 366 – Kidnapping, kidnapping or abetting any woman to compel her to perform marriage, etc.{किसी भी महिला का अपहरण, अपहरण या उसे विवाह आदि करने के लिए विवश करने के लिए उकसाना।}

IPC Section 366.A – Procurement of minor girl{नाबालिग लड़की की खरीद}

IPC Section 366B – Importing girl from abroad{विदेश से लड़की का आयात करना}

 IPC Section 367 – Kidnapping or abduction with intent to make person the subject of grievous hurt, servitude, etc.{व्यक्ति को घोर उपहति, दासता आदि का विषय बनाने के आशय से अपहरण या अपहरण।}

 IPC Section 368 – Wrongful concealment or confinement of kidnapped or kidnapped person.{अपहृत या अपहृत व्यक्ति का गलत तरीके से छिपाना या बंदी बनाना।}

 IPC Section 369 – Kidnapping or abduction with intent to steal from the body of a child under ten years of age{ दस साल से कम उम्र के बच्चे के शरीर से चोरी करने के इरादे से अपहरण या अपहरण}

IPC Section 370 – Human trafficking – Buying or selling of any person as slave.{मानव तस्करी – किसी भी व्यक्ति को गुलाम के रूप में खरीदना या बेचना।}

  IPC Section 371 – Habitual behavior of slaves.{ दासों का अभ्यस्त व्यवहार।}

 IPC Section 372 – Selling to minor for the purpose of prostitution, etc.{वेश्यावृत्ति आदि के उद्देश्य से नाबालिग को बेचना।} 

IPC Section 373 – Purchase of minor for the purpose of prostitution, etc.{वेश्यावृत्ति आदि के उद्देश्य से नाबालिग की खरीद।}

IPC Section 374 – Forced labor unlawful.{बलात् श्रम गैरकानूनी।}

 IPC Section 375 – Rape{बलात्कार}

 IPC Section 376 – Punishment for rape {बलात्कार के लिए सजा}

 IPC Section 376.A – Sexual intercourse by a man with his wife while being separated{अलग होने के दौरान एक पुरुष द्वारा अपनी पत्नी के साथ यौन संबंध}

 IPC Section 376.B – Sexual intercourse by a public servant with a woman in his custody{एक लोक सेवक द्वारा अपनी हिरासत में एक महिला के साथ संभोग}

IPC Section 376.C – Sexual intercourse by Superintendent of jail, remand house, etc.{जेल अधीक्षक, रिमांड हाउस आदि द्वारा यौन संबंध}

IPC Section 376.D – Sexual intercourse by any member of the hospital’s management or staff, etc., with any woman in that hospital{अस्पताल के प्रबंधन या स्टाफ आदि के किसी भी सदस्य द्वारा उस अस्पताल में किसी भी महिला के साथ संभोग}

IPC Section 377 – Offenses against nature{प्रकृति के विरुद्ध अपराध}

IPC Section 378 – Theft{चोरी}

IPC Section 379 – Punishment for theft{चोरी के लिए सजा}

IPC Section 380 – Theft in residence, etc.{निवास में चोरी, आदि}

 IPC Section 381 – Theft of property in possession of owner by clerk or servant.{मालिक के कब्जे में लिपिक या नौकर द्वारा संपत्ति की चोरी}

IPC Section 382 – Theft after preparation to cause death, damage or restraint in order to commit theft.{चोरी करने के लिए मौत, क्षति या अवरोध कारित करने की तैयारी के बाद चोरी।}

IPC Section 383 – Extortion / Extortion {जबरन वसूली / जबरन वसूली}

 IPC Section 384 – Punishment for extortion. {जबरन वसूली के लिए सजा।}

 IPC Section385 – Putting any person in fear of injury in order to extort money. {धन उगाही के लिए किसी व्यक्ति को चोट के भय में डालना}

 IPC Section 386 – Extortion by putting any person in fear of death or grievous hurt. {किसी भी व्यक्ति को मौत या गंभीर चोट के भय में डालकर जबरन वसूली।}

IPC Section 387 – Putting any person in fear of death or grievous hurt in order to extort money.{पैसे की उगाही के लिए किसी व्यक्ति को मौत या गंभीर चोट के डर में डालना}

IPC Section 388 – Extortion by threat of an offense punishable with death or imprisonment for life, etc.{मौत या आजीवन कारावास आदि से दंडनीय अपराध की धमकी देकर जबरन वसूली}

IPC Section 389 – Putting any person in fear of being charged with an offence, in order to make extortion.{किसी व्यक्ति को जबरन वसूली के लिए आरोपित किए जाने के भय में डालना}

IPC Section 390 – Robbery. {डकैती}

 IPC Section 391 – Robbery {डकैती}

IPC Section 392 – Punishment for robbery {डकैती के लिए सजा}

IPC Section 393 – Attempt to commit robbery.{लूट करने का प्रयास}

IPC Section 394 – Voluntarily causing hurt in committing robbery {लूट करने में स्वेच्छा से चोट पहुंचाना}

IPC Section 395 – Punishment for dacoity {डकैती के लिए सजा}

IPC Section 396 – Dacoity including murder.{हत्या सहित डकैती}

IPC Section 397 – Robbery or dacoity with attempt to cause death or grievous hurt.{डकैती या डकैती जिसमें मौत या गंभीर चोट पहुंचाने का प्रयास किया जाता है}

IPC Section 398 – Armed with deadly weapon, attempt to commit robbery or dacoity. {घातक हथियार से लैस, डकैती या डकैती करने का प्रयास}

IPC Section 399 – Preparing to commit dacoity.{डकैती करने की तैयारी है}

IPC Section 400 – Punishment for being a gang of dacoits{डकैतों का गिरोह होने की सजा}

IPC Section 401 – Punishment for belonging to gang of thieves.{चोरों के गिरोह से संबंधित होने के लिए सजा}

 IPC Section 402 – Assembly for the purpose of committing dacoity. {डकैती करने के प्रयोजन से सभा करना}

IPC Section 403 – Dishonest misappropriation/misuse of property. {बेईमानी से दुर्विनियोग/संपत्ति का दुरूपयोग}

IPC Section 404 – Dishonest embezzlement/misuse of property in the possession of deceased person at the time of his death.{मृत व्यक्ति की मृत्यु के समय उसके कब्जे में संपत्ति का बेईमानी से गबन/दुरुपयोग}

IPC Section 405 – Criminal breach of trust. {आपराधिक विश्वास का उल्लंघन}

IPC Section 406 – Criminal breach of trust{आपराधिक विश्वास का उल्लंघन}

IPC Section 407 – Criminal breach of trust by caretaker, etc.{कार्यवाहक, आदि द्वारा आपराधिक विश्वास का उल्लंघन}

IPC Section 408 – Criminal breach of trust by clerk or servant{लिपिक या सेवक द्वारा आपराधिक विश्वासघात}

IPC Section 409 – Criminal breach of trust by public servant or bank employee, trader or agent{लोक सेवक या बैंक कर्मचारी, व्यापारी या एजेंट द्वारा आपराधिक विश्वासघात}

IPC Section 410 – Stolen property{चोरी की संपत्ति}

IPC Section 411 – Dishonestly receiving stolen property{चोरी की संपत्ति को बेईमानी से प्राप्त करना}

IPC Section 412 – Dishonestly receiving property which has been stolen in order to commit dacoity.{डकैती करने के लिए चोरी की गई संपत्ति को बेईमानी से प्राप्त करना}

IPC Section 413 – Practicing trade in stolen property.{चोरी की संपत्ति का व्यापार करना}

IPC Section 414 – Assisting in concealment of stolen property.{चोरी की संपत्ति को छिपाने में सहायता करना}

 IPC Section 415 – Cheating{धोखा देना}

 IPC Section 416 – Cheating by impersonation{प्रतिरूपण द्वारा छल करना}

 IPC Section 417 – Punishment for cheating.{छल के लिए सजा}

IPC Section 418 – Cheating with knowledge that wrongful loss may be caused to person whose interest the offender is bound to protect {इस ज्ञान के साथ छल करना कि उस व्यक्ति को सदोष हानि हो सकती है जिसके हित की रक्षा करने के लिए अपराधी आबद्ध है}

IPC Section 419 – Punishment for cheating by impersonation.{प्रतिरूपण द्वारा धोखाधड़ी के लिए दंड}

IPC Section 420 – Cheating and dishonestly inducing to give valuable article/property{धोखा देना और बेईमानी से मूल्यवान वस्तु/संपत्ति देने के लिए उत्प्रेरित करना}

IPC Section 421 – Dishonestly or fraudulently diversion or concealment of property to prevent distribution among creditors{लेनदारों के बीच वितरण को रोकने के लिए बेईमानी से या धोखाधड़ी से संपत्ति का मोड़ या छुपाना}

 IPC Section 422 – Dishonestly or fraudulently preventing money from becoming available to creditors.{बेईमानी से या कपटपूर्वक लेनदारों को धन उपलब्ध होने से रोकना} 

IPC Section 423 – Dishonest or fraudulent execution of deed of transfer containing false statement as to consideration. {विचार के रूप में झूठे बयान वाले हस्तांतरण के विलेख का बेईमानी या कपटपूर्ण निष्पादन}

IPC Section 424 – Dishonestly or fraudulently extortion or concealment of property.{बेईमानी से या कपटपूर्वक जबरन वसूली या संपत्ति को छिपाना}

IPC Section 425 – Mischief / mischief. {शरारत / शरारत}

IPC Section 426 – Punishment for mischief.{शरारत के लिए सजा}

IPC Section 427 – Mischief causing damage to fifty rupees. {शरारत जिससे पचास रुपये का नुकसान होता है}

IPC Section 428 – Mischief by killing or incapacitating an animal of the value of ten rupees {दस रुपये मूल्य के जानवर को मारकर या अक्षम करके शरारत करना}

IPC Section 429 – Abetment by means of carrying, etc., of any value, or by killing or incapacitating any animal of the value of fifty rupees, etc.{किसी भी मूल्य का ले जाने, आदि के माध्यम से दुष्प्रेरण, या पचास रुपये के मूल्य के किसी भी जानवर को मारने या अक्षम करने आदि}

IPC Section 430 – Mischief by causing damage to irrigation work or by wrongful diversion of water {सिंचाई कार्य को नुकसान पहुंचाकर या पानी के गलत तरीके से मोड़कर शरारत करना}

IPC Section 431 – Mischief by causing damage to public road, bridge, river or water course{सार्वजनिक सड़क, पुल, नदी या जलमार्ग को नुकसान पहुंचाकर शरारत करना}

IPC Section 432 – Mischief by causing harmful inundation or obstruction to public drainage {हानिकारक जलप्लावन या सार्वजनिक जल निकासी में बाधा उत्पन्न करके शरारत करना}

IPC Section 433 – Mischief by destroying, removing or making less useful any lighthouse or sea-mark {किसी प्रकाशस्तंभ या समुद्र-चिह्न को नष्ट करने, हटाने या कम उपयोगी बनाने के द्वारा शरारत}

IPC Section 434 – Mischief by destruction or removal, etc., of land mark put up by public authority {लोक प्राधिकरण द्वारा लगाए गए भूमि चिह्न को नष्ट करने या हटाने आदि द्वारा शरारत}

 IPC Section 435 – Mischief by fire or explosive substance with intent to cause damage of one hundred rupees or (in case of agricultural produce) ten rupees. {एक सौ रुपये या (कृषि उपज के मामले में) दस रुपये का नुकसान करने के इरादे से आग या विस्फोटक पदार्थ द्वारा शरारत।}

 IPC Section 436 – Abetment by fire or explosive substance with intent to destroy house, etc. {घर आदि को नष्ट करने के इरादे से आग या विस्फोटक पदार्थ द्वारा दुष्प्रेरण}

IPC Section 437 – Mischief with intent to destroy or render unsafe a shipwrecked or twenty tonne loader. {एक जहाज के मलबे या बीस टन लोडर को नष्ट करने या असुरक्षित बनाने के इरादे से शरारत}

IPC Section 438 – Punishment for mischief by fire or explosive substance mentioned in section 437.{धारा 437 में वर्णित आग या विस्फोटक पदार्थ द्वारा शरारत के लिए सजा}

 IPC Section 439 – Punishment for intentionally setting ship on land or shore with intent to commit theft, etc.{चोरी आदि करने के इरादे से जानबूझकर जहाज को जमीन या किनारे पर स्थापित करने के लिए दंड}

 IPC Section 440 – Mischief committed after preparation to cause death or hurt. {मौत या चोट पहुंचाने की तैयारी के बाद की गई शरारत}

 IPC Section 441 – Criminal trespass. {आपराधिक अतिचार}

 IPC Section 442 – House-trespass .{घर-अतिचार आईपीसी}

 IPC Section 443 – Disguised house-trespass .{प्रच्छन्न गृह-अतिचार}

IPC Section 444 – Night-time covert house-trespass {रात के समय गुप्त गृह-अतिचार}

IPC Section 445 – House-breaking.{मकान तोड़ना}

IPC Section 446 – Night house-breaking {रात्रि गृह तोड़ना}

IPC Section 447 – Punishment for criminal trespass. {आपराधिक अतिचार के लिए दंड}

 IPC Section 448 – Punishment for house-trespass.{गृह-अतिचार के लिए दंड}

IPC Section 449 – House-trespass to prevent offense punishable with death{मौत से दंडनीय अपराध को रोकने के लिए गृह-अतिचार}

 IPC Section 450 – House-trespass to commit offense punishable with imprisonment for life{आजीवन कारावास से दंडनीय अपराध करने के लिए गृह-अतिचार}

 IPC Section 451 – House-trespass to commit offense punishable with imprisonment. {कारावास से दंडनीय अपराध करने के लिए घर-अतिचार}

 IPC Section 452 – Entering the house without permission, Preparing to cause hurt, Assault or wrongful coercion.{बिना अनुमति के घर में प्रवेश करना, चोट, हमला बिना अनुमति के घर में प्रवेश करना, चोट, हमला या गलत जबरदस्ती करने की तैयारी करना}

 IPC Section 453 – Punishment for covert house-trespass or house-breaking.{गुप्त गृह-अतिचार या गृह-भंग के लिए दंड}

IPC Section 454 – Secretly committing house-trespass or house-breaking in order to commit offense punishable with imprisonment.{कारावास से दंडनीय अपराध करने के लिए गुप्त रूप से घर-अतिचार या घर-तोड़ना}

IPC Section 455 – Disguised house-trespass or house-breaking after preparation for hurt, assault or wrongful obstruction.{चोट, हमले या सदोष बाधा की तैयारी के बाद प्रच्छन्न घर-अतिचार या घर-तोड़ना}

IPC Section 456 – Punishment for house-trespass or house-breaking by covert at night. {रात में गुप्त रूप से घर-अतिचार या घर-तोड़ने की सजा}

 IPC Section 457 – Covertly committing house-trespass or house-breaking at night to commit offense punishable with imprisonment.{कारावास से दंडनीय अपराध करने के लिए रात में गुप्त रूप से घर-अतिचार या घर तोड़ना}

IPC Section 458 – House-trespass at night by preparation for damage, assault or wrongful obstruction. {क्षति, हमले या सदोष बाधा डालने की तैयारी करके रात में घर में अतिचार}

 IPC Section 459 – Causing grievous hurt while doing covert house-trespass or house-breaking. {गुप्त गृह-अतिचार या गृह-भंग करते समय घोर उपहति कारित करना}

IPC Section 460 – All persons jointly involved in covert house-trespass or night-breaking house-breaking are punishable when death or grievous hurt is caused by one of them.{सभी व्यक्ति संयुक्त रूप से गुप्त घर-अतिचार या रात-भंग गृह-तोड़ने में शामिल हैं, जब उनमें से किसी एक की मृत्यु या गंभीर चोट लगने पर दंडनीय है}

IPC Section 461 – Dishonestly breaking open receptacle containing property.{संपत्ति से युक्त खुले पात्र को बेईमानी से तोड़ना}

 IPC Section 462 – Punishment for offense committed by person to whom custody is entrusted. {उस व्यक्ति द्वारा किए गए अपराध के लिए सजा जिसे अभिरक्षा सौंपी गई है}

IPC Section 463 – Forgery. {जालसाजी}

IPC Section 464 – Making a false document.{झूठा दस्तावेज बनाना}

IPC Section 465 – Punishment for forgery. {जालसाजी के लिए सजा}

 IPC Section 466 – Forgery of court record or public register etc.{अदालती रिकॉर्ड या सार्वजनिक रजिस्टर आदि की जालसाजी}

IPC Section 467 – Forgery of valuable security, will, etc.{मूल्यवान सुरक्षा, वसीयत आदि की जालसाजी}

IPC Section 468 – Forgery for the purpose of deceit {छल के उद्देश्य से जालसाजी}

IPC Section 469 – Forgery with intent to cause harm to reputation {प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के इरादे से जालसाजी}

IPC Section 470 – Forged 2 [document or electronic record.{जाली 2 [दस्तावेज़ या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड}

IPC Section 471 – Using forged document or electronic record as original {जाली दस्तावेज़ या इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड का मूल के रूप में उपयोग करना}

IPC Section 472 – Making or taking possession of counterfeit currency, etc., with intent to commit forgery punishable under section 467. {जालसाजी करने के इरादे से जाली मुद्रा आदि बनाना या कब्जा करना धारा 467 के तहत दंडनीय है}

IPC Section 473 – Making or taking possession of counterfeit currency, etc., with intent to commit forgery otherwise than punishable. {जाली मुद्रा आदि बनाना या अपने कब्जे में लेना, दंडनीय से अन्यथा जालसाजी करने के इरादे से}

IPC Section 474 – Possession of document mentioned in section 466 or 467, knowing it to be forged and intending to use it as original .  {धारा 466 या 467 में उल्लिखित दस्तावेज का कब्ज़ा, यह जानते हुए कि यह जाली है और इसे मूल के रूप में उपयोग करने का इरादा रखता है}

IPC Section 475 – Counterfeiting a characteristic or mark used for authentication of documents mentioned in section 467 or possessing counterfeit marked substance. {धारा 467 में उल्लिखित दस्तावेजों के प्रमाणीकरण के लिए उपयोग की जाने वाली विशेषता या चिह्न का कूटकरण करना या नकली चिह्नित पदार्थ रखना}

IPC Section 476 – Counterfeiting a characteristic or mark used for authenticating documents other than those mentioned in section 467 or possessing counterfeit marked substance.  {धारा 467 में उल्लिखित दस्तावेजों के अलावा अन्य दस्तावेजों को प्रमाणित करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली विशेषता या चिह्न की जालसाजी करना या नकली चिह्नित पदार्थ रखना}

 IPC Section 477 – Fraudulent cancellation, destruction, etc. of Will, adoption authorization or valuable security. {वसीयत, दत्तक ग्रहण प्राधिकरण या मूल्यवान सुरक्षा का कपटपूर्ण रद्दीकरण, विनाश आदि}

 IPC Section 477.A – FALSE OF ACCOUNT. {खाते का झूठा}

IPC Section 478 – Trade Marks. {व्यापार चिह्न}

IPC Section 479 – Property-mark. {संपत्ति-चिह्न}

IPC Section 480 – False trade mark used. {मिथ्या व्यापार चिह्न का प्रयोग किया गया}

IPC Section 481 – Using false property-mark. {झूठी संपत्ति-चिह्न का उपयोग करना}

IPC Section 482 – Punishment for use of false property-mark. {झूठी संपत्ति-चिह्न के उपयोग के लिए दंड}

 IPC Section 483 – Counterfeiting a property mark used by another person . {किसी अन्य व्यक्ति द्वारा उपयोग किए गए संपत्ति चिह्न का कूटकरण}

IPC Section 484 – Counterfeiting a mark used by public servant.  {लोक सेवक द्वारा इस्तेमाल किए गए चिह्न का कूटकरण}

IPC Section 485 – Making or taking possession of any device for counterfeiting property-mark . {संपत्ति-चिह्न की जालसाजी के लिए किसी उपकरण को बनाना या अपने कब्जे में लेना}

IPC Section 486 – Sale of goods marked with counterfeit property mark . {नकली संपत्ति के निशान के साथ चिह्नित माल की बिक्री}

IPC Section 487 – Making a false mark on a receptacle in which goods are kept. {जिस पात्र में सामान रखा जाता है उस पर मिथ्या चिन्ह बनाना}

IPC Section 488 – Punishment for using any such false mark.  {ऐसे किसी भी मिथ्या चिह्न के प्रयोग के लिए दण्ड}

IPC Section 489 – Deteriorating property mark with intent to cause injury . {चोट कारित करने के इरादे से संपत्ति के निशान का बिगड़ना}

IPC Section 489.A – Counterfeiting of currency notes or bank notes. {करेंसी नोटों या बैंक नोटों की जालसाजी}

IPC Section 489.B – Using counterfeit or counterfeit currency notes or bank notes as genuine . {नकली या नकली करेंसी नोटों या बैंक नोटों को असली के रूप में उपयोग करना}

IPC Section 489.C – Possession of counterfeit or counterfeit currency notes or bank notes {जाली या जाली करेंसी नोटों या बैंक नोटों का कब्ज़ा}

IPC Section 489.D – Making or possessing apparatus or material for counterfeiting or counterfeiting currency notes or bank notes {जाली नोटों या बैंक नोटों की जालसाजी या जालसाजी के लिए उपकरण या सामग्री बनाना या रखना}

IPC Section 489.E – Creation or use of currency notes or documents resembling banknotes. {करेंसी नोटों या बैंक नोटों के सदृश दस्तावेजों का निर्माण या उपयोग}

IPC Section 490 – Breach of service during voyage or voyage. {यात्रा या यात्रा के दौरान सेवा का उल्लंघन}


IPC Section 491 – Breach of contract to attend to helpless person and supply his needs. {असहाय व्यक्ति की देखभाल करने और उसकी जरूरतों को पूरा करने के लिए अनुबंध का उल्लंघन}

IPC Section 492 – Breach of contract to serve at a distant place where servant is taken at the expense of the master. {दूर के स्थान पर सेवा करने के लिए अनुबंध का उल्लंघन जहां मालिक की कीमत पर नौकर लिया जाता है}

IPC Section 493 – Cohabitation caused by a man falsely inducing belief in lawful marriage.  {वैध विवाह में विश्वास को झूठा उत्प्रेरित करने वाले व्यक्ति द्वारा कारित सहवास}

IPC Section 494 – To remarry during the lifetime of the spouse. {पति या पत्नी के जीवनकाल में पुनर्विवाह करने के लिए}

 IPC Section 495 – Same offense by concealment of previous marriage from person with whom subsequent marriage is performed. {पिछली शादी को उस व्यक्ति से छुपाकर, जिसके साथ बाद में शादी की जाती है, वही अपराध}

IPC Section 496 – Fraudulent performance of marriage ceremony without lawful marriage. {विधिपूर्ण विवाह के बिना कपटपूर्वक विवाह समारोह करना}

IPC Section 497 – Adultery. {व्यभिचार}

IPC Section 498 – Seduction or detention of a married woman with criminal intent. {आपराधिक इरादे से विवाहित महिला को बहकाना या हिरासत में लेना}

 IPC Section 498.A – Husband or relative of husband causing cruelty to a woman. {पति या पति का रिश्तेदार महिला के साथ क्रूरता करता है}

IPC Section 499 – Defamation. {मानहानि}

 IPC Section 500 – Punishment for defamation. {मानहानि के लिए सजा}

 IPC Section 501 – Printing or engraving matter known to be defamatory. {मानहानिकारक ज्ञात सामग्री को छापना या उकेरना}

IPC Section 502 – Selling of printed or engraved material having defamatory matter. {मानहानिकारक सामग्री वाली मुद्रित या उत्कीर्ण सामग्री की बिक्री}

 IPC Section 503 – Criminal intimidation.  {आपराधिक धमकी}

IPC Section 504 – Intentional insult with intent to provoke breach of the peace. {शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर अपमान करना}

IPC Section 505 – Statement in public opinion.  {जनमत में वक्तव्य}

 IPC Section 506 – Bullying.  {धमकाना}

IPC Section 507 – Criminal.  intimidation by anonymous communication. {गुमनाम संचार द्वारा आपराधिक धमकी}

IPC Section 508 – Act done by inducing person to believe that he will be an object of divine displeasure.{व्यक्ति को यह विश्वास करने के लिए उत्प्रेरित करके किया गया कार्य कि वह दैवीय अप्रसन्नता का पात्र होग}

IPC Section 509 – Word, gesture or act intended to outrage the modesty of a woman . {शब्द, हावभाव या कार्य जिसका उद्देश्य किसी महिला का शील भंग करना है}

IPC Section 510 – Misconduct in public place by drunken person. {शराबी व्यक्ति द्वारा सार्वजनिक स्थान पर दुराचार}

 IPC Section 511 – Punishment for attempting to commit offenses punishable with imprisonment for life or with other imprisonment.{आजीवन कारावास या अन्य कारावास से दंडनीय अपराध करने का प्रयास करने के लिए दंड}

IPC Section 52A – Confusion.{भ्रम}

IPC section 53A – Interpretation of reference to deportation . {निर्वासन के संदर्भ की व्याख्या}

IPC Section 55A – Definition of Appropriate Government. {उपयुक्त सरकार की परिभाषा}












WRITER –  MANOJ TIGRIYA
Presented by – HindiTakniki


https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSfCRoTDnz4MnSe58LlYKkpmXKR_fSEmxug0KkHDxZ4LEgGxZA/viewform?vc=0&c=0&w=1&flr=0

Leave a Comment