जानिए 2022 में भारत की स्पेस ऐजेंशी ISRO कौनसे मिशन को अंजाम देने की होड में है।

Upcoming Missions : ISRO

 2022 में भारत का सबसे पहला लक्ष्य अपना सुरक्षा तत्र को अभेद्य बनाने का है। भारत का  DRDO अपने हथीयारो और मिशायलो का सफल परिक्षण कर दूनिया को हैरान कर रहा है और नए साल में इससे भी ज्यादा की तैय्यारी है। वही इसी कडी में भारत के ISRO ने भी अपने अभीयानो की लम्बी चौडी लिस्ट बना ली है। 2022 में ISRO कुछ ऐसी बडी उपलब्धिया हासिल करेगा जिससे दुनिया भारत का लोहा मानेगी।  भारत की एकमात्र स्पेश ऐजेंशी ISRO ना के बराबर बजट में भी कई बडे-बडे लक्ष्यो को हासिल करने के लिए जाना जाता है। 2022 में कुछ ऐसे ही मिशन को अंजाम देने के लिए ISRO ने अपनी कमर कस ली है जिसकी और अन्य देशो की स्पेश ऐजेंशीयो की निगाहे है। जानिए कुछ ऐसे ही ISRO के मिशन के बारे में।

गगनयान मिशन

2022 में गगनयान मिशन भारत का सबसे पहला और सबसे महत्वकांशी मिशन होगा। इस मिशन के तहत भारत अपने ऐस्ट्रोनाटस् को अंतरिक्ष में भेजेगा। इसकी सबसे खास बात ये है कि इसमें पहले प्रयोग के लिए रुस की तरह किसी जानवर को पहले भेजने की बजाय वियोमित्र नाम के एक राबोट को स्पेश मे भेजा जाएगा यह राबोट हुबहु इंसानो की नकल कर सकता है और किसी मुसीबत में अलर्ट भी भेज सकता है। स्पेश में जाने वाले ऐस्ट्रोनाटस् ने रुस में अपनी ट्रेनिंग पूरी कर रहे है और जल्द ही अंतरिक्ष का रुख करेंगे। अगर यह मिशन सफल हुआ तो भारत अमेरिका, रुस, चीन के बाद तीसरा देश बन जाएगा जो  अपने बल बुते पर ऐस्ट्रोनाट को अंतरिक्ष में भेजेगा।

चन्द्रयान मिशन 3

भारत के एक महत्वकांशी मिशन चन्द्रयान 2 के विफल होने से ISRO ने जरा भी हिम्मत नहीं खोई है बल्कि इस विफलता ने भारत को और जाने के लिए दृढ़ कर दिया है। 2020 में चन्द्रयान-3 को कारोना महामारी के कारण टाला गया था जिसे अब 2022 में अंजाम देने का निर्णय ले लिया गया है। यह मिशन चन्द्रयान-2 की तरह ही होगा बस इसमें आर्बिटर नहीं होगा क्योकि चन्द्रयान-2 में भले ही रोवर चाँद पर नहीं उतर पाया लेकिन उसका आर्बिटर अभी भी सही ढ़ग से चाँद की परिक्रमा कर रहा है और ISRO को चाँद के सतह की सही तस्वीरे भेज रहा है इसी का इस्तेमाल चन्द्रयान-3 मिशन में किया जाएगा। और अगर यह मिशन सफल हुआ तो चाँद के बारे में और भी महत्वपुर्ण जानकारी इंसानो के हाथ लग सकती है।

स्पेश स्टेशन

इंसानो द्वारा बनाई गई आज तक की सबसे महंगी चीज अगर कोई है तो वह है अंतरास्ट्रीय स्पेश स्टेशन जिसको अमेरिका सहित कई अन्य देशो के योग्यदान द्वारा बनाया गया दुनिया का एकमात्र स्पेश स्टेशन है। यही पर अंतरिक्ष में जाने वाले ऐस्ट्रोनाट ठहरते है। पर अब चीन और भारत भी अपने खुद के स्पेश स्टेशन बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहे है। हालाकि ये स्पेश स्टेशन नासा के स्पेश स्टेशन जितने बडे तो नही होंगे पर इससे भारत के ऐस्ट्रोनाट की दुसरे देशो पर निर्भरता कम होगी। ये स्पेश स्टेशन परी तरह बनकर कब तैय्यार होगा इस पर अभी संक्षय है पर इसकी शुरुआत 2022 में होना लगभग तय है। यह मिशन भारत का स्पेश में वर्चस्व बढाएगा।

इसके आलावा और भी अन्य मिशन पर भारत अग्रसर है जिसे इस साल या अगले साल पुरा करने की इच्छा है।

https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSfCRoTDnz4MnSe58LlYKkpmXKR_fSEmxug0KkHDxZ4LEgGxZA/viewform?vc=0&c=0&w=1&flr=0

Leave a Comment