दमदार फीचर्स के साथ TATA Super App “Tata Neu” लॉन्च, Damdar Features Ke Sath TATA Neu Launch

टाटा  ने  मोस्ट अवेटेड tata super app न्यू (Neu) को लॉन्च कर सबको हैरान और खुश कर दिया। इस ऐप को आप गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड कर सकते है। एकदिन के अंदर इसे अब तक 5 लाख से ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं।

दमदार फीचर्स के साथ TATA Super App "Tata Neu" लॉन्च, Damdar Features Ke Sath TATA Neu Launch

Damdar Features Ke Sath TATA Neu Launch

टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन का कहना है कि “इस ऐप को लांच  करना ही एक बार फ़िरआम लोगों को  बेहतर  और ख़ास  सुविधा  पहुँचाना  है। टाटा  हमेशासे हर वर्ग के लोगों  के बारे  में  सोचता  आया है।

तभी इस डिजिटल प्लेटफॉर्म से इंडियन कंज्यूमर्स के जीवन को सरल और आसान बनाने का उद्देश्य  रखता है ।

मिलेगी सुपर ऐप में ग्रॉसरी से लेकर फ्लाइट और होटल बुकिंग की सुविधा; 5 लाख से ज्यादा लोगों ने किया डाउनलोड

चंद्रशेखरन कहते  है कि, ‘tataneu ऐप एक एक्साइटिंग प्लेटफॉर्म है, जो हमारे सभी ज़रूरत  भरे  ब्रांड्स को एक  जगह लाता है।

यह टाटा के वंडरफुल वर्ल्ड को डिस्कवर करने का एक बिल्कुल अनोखा  और  मज़ेदार तरीका है। उनका कहना है  कि हमारे कई भरोसेमंद और पसंदीदा ब्रांड एयर एशिया, बिगबास्केट, क्रोमा, आईएचसीएल, क्यूमिन, स्टारबक्स, टाटा 1 एमजी, टाटा क्लिक, टाटा प्ले, वेस्टसाइड को इस प्लेटफॉर्म पर देखकर उन्हें बहुत गर्व हो रहा है।

TATA NEU ऐप दे सारे ब्रांड्स

विस्तारा, एअर इंडिया, टाइटन, तनिष्क, टाटा मोटर्स भी जल्द इस ऐप  का हिस्सा  बनेगे’।

सबसे  पहले  2010 में  ब्लैकबेरी फाउंडर माइक लैजारिडिस ने सुपर ऐप शब्द का प्रयोग किया  था। 

सुपर ऐप का मतलब  है, एक ऐसा प्लेटफॉर्म, जिस पर सभी जरूरत की वस्तुएं और सेवाएं मिलती हैं।  अभी तक अमेरिका, यूरोप या UK के  नाम  सुपर ऐप  बनाने  में  शामिल  नहीं है । 

लेकिन  चीन में एक ऐसा ऐप  बन चुका  है, जिसका  नाम  था “वीचैट (WeChat): । इसकी  शुरुआत तो मैसेजिंग ऐप की तरह  हुई थी।

Super App से क्या  समझते  है ?

पर  बाद में  इस पर पेमेंट्स, शॉपिंग, फूड ऑर्डरिंग, कैब सर्विसेज भी मिलने लग गई  और फ़िर  यह एक सुपर ऐप में  बदल  गया। आप चाहे  तो  सुपर ऐप को  एक मॉल की  तरह समझ सकते हैं,  इसके रिटेल स्पेस में आपको सभी ब्रांड्स और बिजनेस व वर्टिकल्स की दुकानें  आसानी  से मिल जाएंगीं।

ज्यादातर  वहीं  कंपनियां सुपर ऐप बनाती हैं, जो कई तरह की सर्विसेज और प्रोडक्ट्स ऑफर कर सकती हैं। वे सुपर ऐप लांच कर सभी सर्विसिंग को एक प्लेटफॉर्म पर लाने का प्रयास  करती हैं।

 सबसे  पहले सुपर ऐप का प्रयोग  चीन और दक्षिण-पूर्व एशिया ने किया। वीचैट, गोजेक (GoJek), ग्रैब (Grab) ने अपनी  इनकम  में  बढ़ोतरी  करने  के लिए अतिरिक्त सर्विसेज देनी शुरू कर दी।

सोशल मीडिया जैसे प्लेटफॉर्म पर कस्टमर ट्रैफिक बढ़ाने के लिए और  कंस्यूमर की ज़रूरतों का ध्यान रखते हुए कम्पनियो  ने  यह  शुरुवात की ।

सुपर ऐप्स का निर्माता कौन ?

 पश्चिम एशिया क्षेत्र में एक अलग ही अप्रोच देखने को मिली । माजिद अल फुत्ताइम ग्रुप, एमार, चलहूब ग्रुप जैसे पारंपरिक बिजनेस ग्रुप्स के शॉपिंग मॉल्स, ग्रॉसरी और एंटरटेनमेंट बिजनेस हुआ  करते थे। फ़िर उन्होंने डिजिटल असेट्स बनाकर उन्हें जल्द ही सुपर ऐप्स में बदल कर रख  दिया।

अब एक से ज्यादा  प्रोडक्ट्स कंस्यूमर को मिल  सकते  हैं।

इंटरनेट कंसल्टेंसी फर्म रेडसीयर (RedSeer) के अनुसार  इन बिजनेस ग्रुप्स के डिजिटल असेट्स पर कस्टमर फुटफॉल बढ़ता गया और खरीदने वाले कस्टमर्स में  लगातार वृद्धि  हुई ।

फ़िर आगे जाकर यह हर क्षेत्र में सुपर ऐप के विकसित होने  का आधार बनता गया।

अपने कंज्यूमर ऑफरिंग्स को एक प्लेटफॉर्म पर लाने की टाटा की सोच गल्फ रीजन के बिजनेस ग्रुप्स जैसी लगती है ।

एक देश या क्षेत्र तभी सुपर ऐप बना पाता है, जब उस देश की बड़ी आबादी डेस्कटॉप के बजाय स्मार्टफोन का प्रयोग कर ज्यादा  से ज्यादा सेवाएं और सुविधाएं पाने की चाहत  रखती हो। लोगों की स्थानीय जरूरतों को पूरा करने के लिए ऐप्स का इकोसिस्टम विकसित न होना भी इसकी एक बड़ी वजह हो सकती है।

अब भारतीय कंपनियां को सुपर ऐप्स में दिलचस्पी क्यों?

आजकल भारत जैसे  देश के  मार्केट में एक बड़ी आबादी इंटरनेट का इस्तेमाल कर पा रही है। अब  90%सब्सक्राइबर स्मार्ट  फ़ोन के माष्यम  से  इंटरनेट सर्फिंग करते हैं।

यही कारण है  कि ज्यादातर कंपनियां सुपर ऐप्स बनाने  की  शुरुवात  कर  रही  हैं और  भविष्य  में  भी  कुछ  न कुछ  एडवांस  लाने  की योजना  बना  रही है। 

सुपर ऐप्स रेवेन्यू  तो बढ़ाता  ही है  पर  एक  सुविधा  और भी दे रहा  है, वह  कंज्यूमर डेटा से यूजर बिहेवियर के बारे में ज्यादा जानकारी जुटाने में भी सक्षम  और पारंगत है।

टाटा  की यह  सुपर  ऐप  की लॉन्च  भारत  की अर्थव्यवस्था  में  प्रगति  लाने  में  भी मददगार  साबित  होगी।

Read Also: Elon Musk ट्विटर के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स

Leave a Comment